अध्यादेशको स्वागत «